भोपाल/ भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार रात 9 बजे चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल लाल जी टंडन ने उन्हें मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलवाई।

शिवराज सिंह 2005 से 2018 तक लगातार 13 साल सीएम रह चुके हैं। इस दौरान उन्होंने तीन बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली,  उनके फिर सीएम बनने पर मध्यप्रदेश के इतिहास में यह पहली बार होगा जब कोई चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है। तीन बार मुख्यमंत्री रहे स्वर्गीय अर्जुन सिंह एवं स्वर्गीय श्यामाचरण शुक्ल के साथ अपना ही रिकॉर्ड तोड़कर शिवराज सिंह चौहान चौथी बार मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री बन गए हैं।

बता दें कि पिछले एक महीने से मध्यप्रदेश में राजनैतिक उठा पटक के बाद 20 मार्च को कमलनाथ ने मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था, इसके बाद सीएम पद की दौड़ में शिवराज ही सबसे मजबूत दावेदार माने जा रहे थे, इनके अलावा दो और दावेदार केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा के नाम सामने आ रहा था, लेकिन वर्तमान विधानसभा में संख्या गणित को देखते भाजपा हाईकमान ने शिवराज सिंह चौहान के नाम पर ही मुहर लगाई।

चौथी बार सीएम बनते ही भोपाल, जबलपुर में कर्फ़्यू लगाने का लिया निर्णय

चौथी बार सीएम बनते ही शिवराज सिंह चौहान ने पहला निर्णय कोरोना वायरस को फैलने से रोकने को लेकर लिया, उन्होंने भोपाल और जबलपुर में कोविड19 पॉजिटिव केस मिलने के बाद इन दोनों शहरों में कर्फ़्यू लगाने निर्णय लिया है।

उन्होंने ट्वीट कर लोगों से अपील की है कि कृपया कर अपने और अपनों के लिए कर्फ्यू का पालन कीजिए। अत्यावश्यक वस्तुओं की पूर्ति के लिए प्रशासन को निर्देश है, उन निर्देशों के अनुसार चलें, संयम रखें।

शिवराज सिंह ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा कि COVID19 को हराने का सबसे प्रभावी उपाय है कि अपने घरों में रहना, लोगों के संपर्क में ना आना। इसलिए आपसे मेरी विनम्र अपील है कि अपने लिए, अपनों के लिए, अपनी जिंदगी के लिए, कृपया कर घरों से बाहर ना निकलें।

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here