नई दिल्ली/ दिल्ली विधानसभा चुनाव के परिणाम आ चुके हैं, इसबार भी आम आदमी पार्टी ने बड़ी जीत हासिल की है।
दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों में से जहां आम आदमी पार्टी को 62 सीट मिली है, तो वहीं भारतीय जनता पार्टी 8 सीट ही जीत पाई है, हालांकि पिछली बार से बीजेपी को 5 सीटें अधिक मिली है, जबकि इस बार भी कांग्रेस का खाता तक नही खुला है। दिल्ली के 66 विधानसभा क्षेत्र में लड़ी कांग्रेस की 63 विधानसभा क्षेत्र में प्रत्याशियों की जमानत जप्त हो गई। 2015 में आम आदमी पार्टी से विधायक चुनी गई अल्का लाम्बा इस बार कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रही थी, वे भी हार गई हैं।

दिल्ली के विधानसभा चुनाव में बीजेपी और आम आदमी पार्टी के बीच सीधी टक्कर थी, यहां कांग्रेस कहीं नजर नही आ रही थी। चुनाव परिणाम आने के बाद बीजेपी को दिल्ली में बड़ा झटका लगा है, हालांकि 5 सीटों के साथ ही इसबार बीजेपी का मत प्रतिशत भी बढ़ा है, लेकिन बीजेपी को इससे कहीं अच्छे परिणाम की उम्मीद थी। क्योंकि 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सातों लोकसभा सीट पर बीजेपी को बम्पर जीत मिली थी, लेकिन 2020 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी को निराशा हाथ लगी है।

राज्यों में बीजेपी को एक के बाद एक कई झटके लगे हैं।छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान जैसे अपने गढ़ में बीजेपी की हार के बाद महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिलने के बावजूद भी वहां बीजेपी विपक्ष में बैठने को मजबूर हो गई, तो वहीं झारखंड में भी बीजेपी को सत्ता से हाथ धोना पड़ा है।

कश्मीर से धारा 370 हटने, CAA लागू होने और सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर के पक्ष में फैसला आने के बाद दिल्ली विधानसभा चुनाव में ऐसा परिणाम आना बीजेपी के लिए चिंतन का समय है, व आत्ममंथन की आवश्यकता है।
लोकसभा में बड़ी जीत हासिल करने के बाद राज्यों में आखिर क्यों ऐसे निराशाजनक परिणाम आ रहे हैं।

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here