अरविंद तिवारी

बैंगलुरू/ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बेहद करीबी और पेजावर मठ के तैंतीसवें प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामीजी (88) का आज उडुपी स्थित श्रीकृष्ण मठ में निधन हो गया। उनको साँस लेने में तकलीफ होने पर 20 दिसंबर को केएमसी अस्पताल में भर्ती कराया गया था । जहाँ से स्वास्थ्य ज्यादा खराब होने पर स्वामी जी के इच्छानुसार वापस मठ लाया जा चुका था और मठ में ही उन्होंने अंतिम साँस ली।उनका पार्थिव शरीर अजराकाडू महात्मा गांधी मैदान में रखा जायेगा जहाँ कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा भी उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंँचेंगे। इसके बाद विद्यापीठ में ही उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा।

पीएम ने मोदी ने दी श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री मोदी ने स्वामीजी के निधन पर शोक जताते हुये कहा, “श्री विश्वेश तीर्थ स्वामीजी उन लाखों लोगों के दिल-दिमाग में रहेंगे, जिन्हें उनसे मार्गदर्शन मिला। गुरु पूर्णिमा में उनसे मिलना यादगार रहा। उनके चाहने वालों के प्रति मेरी संवेदनायें।” गौरतलब है कि मोदी 2014 में चुनाव जीतने और प्रधानमंत्री पद ग्रहण करने के बाद स्वामीजी से मिलने पहुंँचे थे।

विश्वेश स्वामी उमा भारती के भी गुरू थे

विश्वेश स्वामी जी मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता उमा भारती के गुरू रहे। उमा करीब एक सप्ताह से उडुपी में ही हैं। उमा ने 1992 में स्वामी जी से संन्यास दीक्षा ली थी। पेजावर मठ उडुपी के ‘अष्ट’ मठों में से एक है।

कर्नाटक में तीन दिन का शोक घोषित

पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामीजी का आज सुबह उडुपी स्थित श्रीकृष्ण मठ में निधन हो गया। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने मठ जानकर उनके अंतिम दर्शन किये और शोक व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने स्वामी के निधन पर कर्नाटक में तीन दिनों का राजकीय शोक घोषित किया है।

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here